Digital website

Category Archives: Vipassana Meditation

डॉ बाबासाहेबानी रंगून येथिल भाषनात विपश्यना नाकारली काय ?

४ डिसेंबर १९५४ ला म्यानमार ला रंगून येथे जागतिक बौद्ध धम्म परिषद झाली.या परिषदेत डॉ बाबासाहेब आंबेडकराचे भाषण झाले.आपल्या भाषणाचे त्यांनी मेमोरेन्डम भाग १ व भाग २ केले.भारतात बौद्ध धम्माचे…

अत्यंत दुर्लभ है पांच बाते..!

पांच दुर्लभ बातें सुलभ होने पर ही हमें निर्वाण प्राप्त हो सकता है । 1) बुद्धो उप्पादो दुल्लभो लोकस्मिं । लोक में बुद्ध का उत्पन्न होना दुर्लभ है । एक…

कायागता स्मृति: बुद्ध ने बत्तीस कुरूपताएं शरीर में गिनायी हैं।

बुद्ध ने बत्तीस कुरूपताएं शरीर में गिनायी हैं। इन बत्तीस कुरूपताओं का स्मरण रखने का नाम कायगता—स्मृति है। बुद्ध कहते हैं कि अपने शरीर में इन विषयों की स्मृति रखे—…

Mrutyu Mangal

मृत्यु  मंगल विपश्यना साधक के लिए मृत्यु मंगल है, अमंगल नही । सुहवनी है, भयावनी नही। अभिनंदनीय है, तिरस्करणीय नही । जब समय पकता है और आयु संस्कार पुरे होते…