Digital website on Dr. Babasaheb Ambedkar

Play
Slider
Monthly Archives: जुलाई 2020

“मनुस्मृती” में क्या कहा हैं…

 पुत्री,पत्नी,माता या कन्या,युवा,व्रुद्धा किसी भी स्वरुप में नारी स्वतंत्र नही होनी चाहिए. मनुस्मृती: अध्याय-९ श्लोक-२ से ६ तक. २- पति पत्नी को छोड सकता हैं, सुद (गिरवी) पर रख सकता…

मंगल धर्म: भगवान ने मंगल पथ की 38 मंजिले बतायी !

1मूर्खों की संगति ना करना ! 2बुद्धिमानों की संगति करना ॥ 3 शीलवानो की संगति करना ॥ 4 अनुकूल स्थानों में निवास करना ॥ 5 कुशल कर्मों का संचय करना…

बुध्द वंदना

इतिपि सो भगवा अरहं, सम्मासम्बुध्दो, विज्जा-चरण सम्पन्नो, सुगतो, लोकविदु, अनुत्तरो, पुरिस-दम्मसारथी, सत्था देव-मनुस्सानं, बुध्दो, भगवा ति ।। बुद्ध वंदना = बुद्ध के गुणों को श्रद्धा पुर्वक स्मरण करते हुए अपने…

भगवान बुद्ध ने धर्म सिखाया, बौद्धधर्म नहीं!

भगवान बुद्ध ने धर्म सिखाया, बौद्धधर्म नहीं लगभग पच्चीस वर्ष पूर्व जब मैं अमेरिका में धर्म सिखाने के लिए गया तब किसी ने मेरा इंटरव्यू लिया और पूछा कि मैंने…

यशवंतराव सच बोलता था…

आप मे से ज्यादातर लोग बाबासाहेब अम्बेडकर [ 1891-1956] को जानते होंगे पर आपने कभी उनके पुत्र यशवंतराव अम्बेडकर [1912-1977] का नाम नही सुना होगा| इसका कारण यह है कि…

विपश्यना – कामवासना से मुक्ति का वैग्यानिक रास्ता

कामवासना मानवमन की सबसे बड़ी दुर्बलता है । जिन तीन तृष्णाओं के कारण वह भवनेत्री में बंधा रहता है उसमें कामतृष्णा प्रथम है , प्रमुख है । माता पिता के…

Translate »
Open chat
1
Jay Bhim,
How can I help you?